निर्भया के साथ न्याय , दोषियो को मिली फासी

Local News National News News Live Nirbhaya justice

आज निर्भया को मिली न्याय से एक बार फिर उम्मिंद की रोशनी जगी है । अहले सुबह 5:30 बजे फासी दे दिया गया । जिस प्रकार न्याय मिलने में हुई देरी लेकिन जो फैसला आया है वो न्यायसंगत और न्यायपालिका की जीत है । जैसे फैसला 7 वर्ष 3 महीन बाद आया है और अगर कुछ बाद आता तो न्यायपुर्ण नही होता और शायद फैसला का रुप भी अलग होता । इस case की पीड़िता पक्ष की वकिल सीमा कुशवाहा जी जो एक मीशाल बनी की बिना किसी फीस और एक मा की दुख को समझा और एक लड्की होते हुए जो निर्भया के लिए दर्द का एहसास कर न्याय लिए आगे आयी वो खुद एक प्रेरणश्रोत है ।

सीमा कुशवाहा साथ में निर्भया के मा एवं पिता

ये जीत सिर्फ न्याय की नही बल्कि एक विश्वास की है एक मा की आस की है । जहा पता नही आज तक कितनो case में कितनों निर्भया को अभी तक न्याय नही मिला । निर्भया की मा का कहना है की वो आगे भी ऐसी बेटियो के लिए आगे आयेंगी और पीडितो की हर सम्भव मदद करेंगी ।

अब विपक्ष के वकिल सहाब का कुछ तर्क और विवरण ।।

AP SINGH (NIRBHAYA case accused lawyer)

और दुसरी तरफ विपक्ष के वकिल AP SINGH की दलील का कहना की वो हमेशा इस फैसले को न्याय के विरूध बताया । उनकी तमाम दलील पर पानी फिर गया । एक तरफ तो उन्के द्वारा दलील जा रहा था मानवाधिकार और ये न्याय की हत्या है तो कुछ और लेकिन जो सिर्फ एक पक्षिय था सोच का । वकिल सहाब का केह्णा था ये अभिमान दाव प्र लगा था COURT और MEDIA का । वकिल सहाब का तो ये भी statement था किसी media को की रात में वो बाहर क्यू गयी एक वकिल कौन होते है जो किसी के चरित्र को ऐसे सवाल करें ।

आरोपी निर्भया मामले का

और जिस देश में सामनंतर का अधिकर का बात हो और वहा ऐसे वैह्सी कुकृत करने वालो का विरोध करने के बजाय लडकियो को ही कमजोर बनाया जा रहा ?? वकिल सहाब का केह्ना था की ऐसे वह्सी कुकृत करने वले के परिवलो को समझाने की जगह इच्छा मृत्यु देने का याचिका देते है ।

हमारा ऐसे सभी विपक्षी वकिल सहाब से अनुरोध है कभी पीड़ित पक्ष का दर्द समझियेगा और दोनो को न्याय के सम्भावित प्रश्न करके देखियेगा क्या वह्सी और कुकृत इतना का पक्ष लेना कितना सही और कितना गलत है ??

अगर जब तक दोषियो में ऐसे खौफ का पर्याय नही दिखेगा तब तक कुछ नही होगा ??

कृपया अपना राय share करें ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *